34.1 C
New Delhi
Saturday, November 26, 2022

दुनिया के सबसे ऊंचे ‘चेनाब रेलवे ब्रिज’ का काम पहुंचा अपने आखिरी पड़ाव में, जानें खासियत

Jammu-Kashmir: देश के ताज जम्मू-कश्मीर में चेनाब नदी पर ‘चेनाब रेलवे ब्रिज’ बनाया जा रहा है, जो कि रियासी जिले के अंतर्गत आते कोड़ी और बक्कल के दरमियान तैयार हो रहा है जिसकी ऊंचाई 359 मीटर की है। इस ब्रिज को दो हिस्सों में बनाया गया है। ब्रिज का एक हिस्सा पिलर पर जबकि दूसरा हिस्सा आर्च पर बनाया जा रहा है।

1315 मीटर के ब्रिज में पिलर वाला हिस्सा तैयार हो गया है। जबकि आर्च का 467 मीटर का आर्च का हिस्सा अपने आखिरी पड़ाव में है और ये ही वो हिस्सा है जिसकी ऊंचाई दुनिया में सबसे ऊंची है। 359 मीटर की इसकी ऊंचाई एफिल टावर से 35 मीटर ज्यादा लंबी है। जबकि दुनिया में रेलवे का सबसे ऊंचा ब्रिज जो कि चीन की बेइपैन नदी पर बना है उसकी ऊंचाई 275 मीटर है। जिससे ये ब्रिज 66 मीटर ज्यादा ऊंचाई पर बनाया गया है।

ब्रिज का आर्च अब लगभग बनकर तैयार हो चुका है। सबसे ऊंचे हिस्से के बॉटम आर्च को लगा दिया गया है और उसे मजबूती देने का काम चल रहा है। अपर आर्च लगना बाकी है, जिसे अगले महीने तक पूरा कर लिया जाएगा। इस आर्च को बनाने के लिए हाई क्वालिटी स्टील का इस्तेमाल हुआ है और इसे जोड़ने के लिए इसमें 2 लाख बोल्ट लगाए गए हैं। इस ब्रिज को बनाने और इसकी मेंटेनेंस के लिए एक रास्ता भी आर्च में ही तैयार किया गया है, जिसका इस्तेमाल आने वाले सालों में मेंटेनेंस के लिए होगा।

दुर्गम क्षेत्र में बनाए जा रहे इस पुल में 24, 000 टन स्टील का इस्तेमाल किया जा रहा है। इस ब्रिज के स्टिल को खास तरह का हरा रंग किया गया है। जो camoflage हो जाता है। इस ब्रिज को बनाने के लिए जो दोनों तरफ से बेड बनाये गए थे, वो फुटबॉल मैदान के आधे हिस्से के बराबर है। वहीं, आर्च ब्रिज को बनाने के लिए जिस Paylon का इस्तेमाल क्रेन को ले जाने के लिए हुए वो भी दुनिया में सबसे ऊंची है। इस प्रोजेक्ट की पल-पल की मॉनिटरिंग हर स्तर पर हो रही है। जिसके लिए हाई डेफिनेशन कैमरा ब्रिज के चारों ओर लगाए गए हैं।

इस ब्रिज को बनाने में कितनी एहतियात बरती गई है इसका अंदाज आप इस बात से लगा सकते हैं कि इस ब्रिज के बनने में आज तक किसी तरह का कोई हादसा नहीं हुआ है। इस ब्रिज को बनाने में 3200 से ज्यादा कर्मचारियों और इंजीनियर ने अपना योगदान दिया है। आज भी ये इंजीनियर और कर्मचारी आर्च की सबसे ऊंचाई यानी कि चेनाब नदी से 359 मीटर पर दिन रात काम कर रहे हैं।

रेलवे अधिकारियों का दावा है कि 2021 में पुल बनकर तैयार हो जाएगा। इस ब्रिज को बनाने की योजना के साथ ही यह चर्चा में है। खासकर यह रेलवे पुल अपने डिजाइन के कारण लोगों में उत्‍सुकता पैदा करता है। पुल उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक परियोजना का हिस्सा है। यह पुल कटरा और बनिहाल के बीच 111 किमी रास्ते को जोड़ेगा।

ये ब्रिज भूकंप के 8 मैग्नीट्यूड के झटकों के साथ 266 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की हवा को भी सहने की क्षमता रखता है। आतंकी खतरों को देखते हुए इस ब्रिज में ब्लास्ट प्रूफ और माइन प्रूफ स्टील का इस्तेमाल किया गया है। इस प्रोजेक्ट का काम 2003 -2004 में शुरू हुआ था। मोदी सरकार ने पुल को प्राथमिकता दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने इस परियोजना पर विशेष ध्‍यान दिया है। पहले ही निर्देश जारी किये जा चुके हैं कि इस पुल का निर्माण कार्य 2021 में पूरा हो जाना चाहिए।

टीम बेबाक

SHARE

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

114,247FansLike
138FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

SHARE