34.1 C
New Delhi
Tuesday, January 31, 2023

देवभूमि में ‘पुष्कर’ खिलाएंगे ‘कमल’, धामी होंगे अगले सीएम, आज ही ले सकते हैं शपथ।

उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लग गई है। पुष्कर सिंह धामी राज्य के अगले सीएम होंगे। शुक्रवार को सीएम पद से इस्तीफा देने वाले तीरथ सिंह रावत ने विधायक दल की बैठक में धामी के नाम का प्रस्ताव रखा। सभी विधायकों ने धामी के नाम पर सहमति से मुहर लगा दी। धामी आज ही सीएम पद की शपथ ले सकते हैं।

कौन है पुष्कर सिंह धामी

  • उधम सिंह नगर जनपद की सीमांत विधानसभा खटीमा के विधायक पुष्कर सिंह धामी का नाम भी सीएम के दावेदार के रूप में सामने आ रहा है।
  • इससे पहले उनका नाम प्रदेश के डेप्युटी सीएम के लिए चल रहा था।
  • खटीमा सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे पुष्कर सिंह धामी लगातार दूसरी बार से विधायक हैं.
  • उन्हें एक साधारण और मिलनसार नेता माना जाता है।
  • सन् 1990 से 1999 तक जिले से लेकर राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में विभिन्न पदों में रहकर विद्यार्थी परिषद में कार्य किया है।
  • पूर्व मुख्यमंत्री एवं वर्तमान में महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के करीबी माने जाने वाले धामी भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष समेत पार्टी में अन्य पदों पर कार्य कर चुके हैं और युवाओं में उनकी पकड़ को बेहतर माना जाता है.
  • -बेरोजगारी के साथ ही विकास के मुद्दों को लेकर वह प्रखर रहे हैं.
  • पुष्कर सिंह धामी को लेकर याद किया जाता है 2002 से 2008 का वह दौर जब उन्होंने पूरे प्रदेश में भ्रमण कर अनेक बेरोजगार युवाओं को संगठित कर विशाल रैलियां की थीं.
  • तब की सरकार से राज्य के उद्योगों में युवाओं को 70 प्रतिशत आरक्षण दिलाने की घोषणा कराना उनकी बड़ उपलब्धि मानी जाती है
  • 2005 में प्रदेश के युवाओं को जोड़कर विधान सभा का घेराव हेतु एक ऐतिहासिक रैली आयोजित की गयी। जिसे युवा शक्ति प्रदर्शन के रूप में उदाहरण स्वरूप आज भी याद किया जाता है.

पुष्कर सिंह धामी जन्म और शिक्षा

  • पुष्कर सिंह धामी का जन्म पिथौरागढ़ के टुंडी गांव में हुआ।
  • पुष्कर सिंह धामी पोस्ट ग्रेजुएट हैं।
  • व्यावसायिक शिक्षा में उन्होंने मानव संसाधन प्रबंधन और औद्योगिक संबंध के मास्टर डिग्री ली है।
  • आर्थिक अभाव में जीवन यापन कर सरकारी स्कूलों से प्राथमिक शिक्षा ग्रहण की।
  • सैनिक पुत्र होने के नाते राष्ट्रीयता, सेवा भाव एवं देशभक्ति को ही उन्होंने धर्म के रूप में अपनाया।
  • तीन बहनों के पश्चात अकेला पुत्र होने के नाते परिवार के प्रति जिम्मेदारियां हमेशा बनी रहीं।

टीम बेबाक

SHARE
Bebak Newshttp://bebaknews.in
Bebak News is a digital media platform. Here, information about the country and abroad is published as well as news on religious and social subjects.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

114,247FansLike
138FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

SHARE