28.1 C
New Delhi
Thursday, August 18, 2022

नीमच मामलाः हत्या के पीछे भाजपा कार्यकर्ताओं का हाथ, परिजनों को एक करोड़ रुपए मुआवजा दे सरकार…

Bhopal: शनिवार को मध्यप्रदेश कांग्रेस ने नीमच मामले को लेकर एक प्रेतवार्ता की है। कांग्रेस के पदाधिकारियों ने कहा कि आदिवासी जनजाति और दलितों पर अत्याचार के नए रिकॉर्ड पर कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी। पूर्व सीएम कमलनाथ द्वारा नियुक्त जांच समिति के अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया ने पत्रकार वार्ता में खुलासा किया कि बाणदा में कन्हैया भील उर्फ कान्हा को चोरी के मिथ्या आरोप में पिकअप वाहन से घसीट कर मार डालने वाले लोग भारतीय जनता पार्टी के नेता हैं। केवल गांव में अपनी धौंस जमाने के लिए और लोगों में भय का वातावरण बनाने के लिए रची गई इस घटना में प्रशासन और सरकार के लोगों का आचरण अपराधियों के पक्ष में था, ऐसा गांव के लोगों ने बताया है। लोगों ने तो यहां तक बताया है कि मृतक को जब अस्पताल ले जाया गया तब पुलिस उसके घर चोरी की जांच करने भी पहुंच गई थी।

आरोपी के परिवार में 20 वर्षों से है गांव की सरपंची

भूरिया ने कहा कि यह स्पष्ट है कि मुख्य आरोपी महेंद्र गुर्जर भारतीय जनता पार्टी का समर्थक है, उसकी पत्नी वर्तमान में सरपंच है और इस परिवार के लोग विगत 20 वर्षों से ग्राम पंचायत बाणदा के सरपंच पद पर हैं। मुख्य आरोपी पर वर्तमान सरपंच पति स्थानीय विधायक जावद एवं मंत्री का समर्थक होने के कारण ग्रामीणों को कार्यवाही होने पर संशय है। प्रशासन पर सरकार का दबाव है। परिवार व ग्रामीण जन भयभीत हैं।

परिवार को सुरक्षा देने की मांग की

जांच समिति के सदस्यों ने पुलिस अधीक्षक नीमच से मिलकर परिवार को सुरक्षा प्रदान करने की मांग की है। आरोपियों को तत्काल गिरफ्तार कर कार्यवाही करने एवं उन्हें सख्त सजा देने की मांग करते हुए कहां है कि मृतक का परिवार उजड़ गया है। उसका मात्र 2 वर्ष का एक बच्चा है, इसलिए मृतक कन्हैया भील के परिवार को एक आवास, परिवार के किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी और एक करोड़ रुपए की सहायता राशि प्रदान की जाये।

आदिवासी समाज इसे बर्दाश्त नहीं करेगा

भूरिया ने सरकार को चेताया कि भय का वातावरण बनाने के लिये मध्य प्रदेश के आदिवासी समाज पर भाजपाईयों के हमले प्रदेश के लिए कलंकित करने वाले हैं। आदिवासी समाज इसे बर्दाश्त नहीं करेगा। प्रदेश में चाहे बलात्कार हो, चाहे ठगी, चाहे प्रशासनिकलालफीताशाही, उसका सर्वाधिक शिकार आदिवासी समाज को बनाया जा रहा है। भूरिया ने कहा कि कमलनाथ सरकार ने आदिवासियों के एक लाख रुपए तक का कर्जा माफ कर, दस हजार तक की आर्थिक सहायता और सूदखोरों के जाल से मुक्त कर आदिवासी वर्ग में आत्मविश्वास पैदा किया था।

प्रदेश में आदिवासी स्कूलें बंद की जा रहीं हैं

आदिवासियों के महापुरुषों के स्मारक बनाने और विश्व आदिवासी दिवस पर अवकाश घोषित कर आत्म सम्मान का वातावरण बनाया था। परंतु शिवराज सरकार ने उस वातावरण को चौपट कर दिया है। आदिवासी स्कूलें बंद की जा रहीं हैं, ताकि आदिवासी शिक्षित न हो सकें। शिवराज सरकार में यह सब लंबे समय तक नहीं चलेगा। पूरे प्रदेश में भाजपा नेता अपनी ठसक बनाने के लिए गरीबों, दलितों, आदिवासियों और पिछड़ों पर अत्याचार कर रहे हैं।

Team Bebak…

SHARE
Bebak Newshttp://bebaknews.in
Bebak News is a digital media platform. Here, information about the country and abroad is published as well as news on religious and social subjects.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

114,247FansLike
138FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

SHARE