11.1 C
New Delhi
Sunday, January 16, 2022

लोक आस्था का महापर्व छठ उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देकर पूजा-अर्चना के साथ हुआ सम्पन्न

  • 60 हज़ार से ज्यादा व्रतधारी के साथ तीन लाख से अधिक लोगों भगवान भास्कर की पूजा-अर्चना की

Noida: लोक आस्था और सूर्य उपासना का पर्व छठ सुबह उगते सूर्य के अर्घ्य के साथ ही नोएडा-ग्रेटर नोएडा में संपन्न हो गया। ग्रेटर नोएडा नोएडा वेस्ट के साथ नोएडा के स्टेडियम में ये पर्व धूमधाम से मनाया गया चार दिवसीय इस अनुष्ठान के चौथे दिन अर्घ्य के बाद व्रतियों ने अन्न-जल ग्रहण कर ‘पारण’ किया।

छठ पर्व के चौथे और अंतिम दिन गुरुवार को 60 हज़ार से ज्यादा व्रतधारी और उनके साथ आए तीन लाख से अधिक लोगों ने जमुना नदी के तट और और कृत्रिम रुप से बनाये गये घाट के पहुंचे और उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देकर भगवान भास्कर की पूजा-अर्चना की। इसके बाद व्रती अपने घर आकर जल-अन्न ग्रहण कर ‘पारण’ किया और 36 घंटे का निर्जल उपवास समाप्त किया। इसके साथ ही सूर्य देव की उपासना का पर्व छठ सम्पन्न हो गया।

सिर पर बांस की टोकरी, सुप में फल, खजूर आदि लाएं और सूर्य, छठ माता को प्रसाद चढ़ाया गया और जल में उतरकर सुबह उगते सूरज को अर्घ्य देने के साथ यह महापर्व संपन्न हो गया। चार दिन तक चलने वाले इस त्योहार में भगवान सूर्य की आराधना की जाती हैं।

नहाय खाय के साथ शुरू हुआ ये पर्व सप्तमी को उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही समाप्त हो गया । इस पर्व में भगवान सूर्य की पूजा का काफी महत्व है। इस दौरान छठ मइया के भजनो और लोक गीतों की बयार बहती जिससे सारा वातावरण भक्तिमय नज़र आ रहा था। इसके बाद घाट पर बनाई गई छठ मैया की वेदी पर दीया जलाए गए और मंगल गीत गाते हुए पूजा की गई।

नोएडा अथॉरिटी के साथ मिल कर प्रवासी महासंघ ने भी इसे लेकर खासी तैयारियां की थी. नोएडा में 12 जगह पर कृत्रिम घाट तैयार किए गए थे। नोएडा स्टेडियम में सबसे बडा घाट बनाया गया था जहाँ आज 30 हजार छठ के व्रती ने उगते सूर्य को अर्घ्य दिया। ग्रेटर नोएडा वेस्ट की गौर सिटी में बनाए गए घाट में सैकड़ों श्रद्धालुओं ने उगते सर्य को अर्घ्य देकर पूजा अर्चना की। यहां पर पूर्वांचल प्रवासी एकता मंच ने पूजा के विशेष इंतजाम किए गए थे।

टीम बेबाक

Bebak Newshttp://bebaknews.in
Bebak News is a digital media platform. Here, information about the country and abroad is published as well as news on religious and social subjects.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

114,247FansLike
131FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles