Share
पीएम मोदी के शिलान्यास व लोकार्पण से पहले सपा नेताओं ने किया पुल का लोकार्पण

पीएम मोदी के शिलान्यास व लोकार्पण से पहले सपा नेताओं ने किया पुल का लोकार्पण

उत्तर प्रदेश (मिर्जापुर): जिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कि 15 जुलाई को होने वाले रैली के दौरान शिलान्यास और लोकार्पण से पहले ही सपाइयों ने चुनार पुल का लोकार्पण कर दिया। दर्जनों कि संख्या में पहुंचे सपाइयों ने पुल पर फीता काट कर उसका लोकार्पण किया। साथ ही जम कर नारे बाजी भी किया।

पिछले दस वर्षों से निर्माणाधीन चल रहे चुनार पुल के पूर्ण होने के बाद संभावना थी कि 15 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जनपद आगमन पर इस पुल का भी लोकार्पण कर सकते है। मगर इससे पहले ही सपा जिला अध्यक्ष आशीष यादव और पूर्व विधायक जगतम्बा पटेल के नेतृत्व में दर्जनों कि संख्या में सपा कार्यकताओं को लेकर वहां पहुंच गए। उन्होंने पुल पर बकायदे फीता काट कर उसका लोकार्पण किया।

उस दौरान सपा कार्यकर्ताओं ने समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के जम कर नारे लगाए। वहीं पुल के लोकार्पण कि जानकारी मिलते ही पुलिस प्रसाशन में हड़कंप मच गया। पुल के लोकार्पण पर जब सपा जिला अध्यक्ष आशीष यादव से सवाल किया तो उनका कहना था कि 10.48 पर पुल के लोकार्पण का मुहर्त था। यह पुल सपा कि वजह से बना है इस लिए हम सभी ने इसका लोकार्पण किया है।

मुलायम सिंह यादव ने किया था 2006 में शिलान्यास

बता दें कि इस पुल का शिलान्यास सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने 2006 में मुख्यमंत्री रहते किया था। मगर विधानसभा चुनाव में सपा की हार और बसपा कि जीत के बाद पांच साल तक पुल के निर्माण पर अंकुश लगा गया। 2012 में दुबारा सपा सरकार आने के बाद भी काम मे अपेक्षित तेजी नहीं आ पाई। 5 वर्ष बीत जाने के बाद भी सपा के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने कार्यकाल में पुल का निर्माण पूरा नहीं करवा सके।

भाजपा सरकार बनते ही पुल के निर्माण कार्य मे तेजी आयी पुल बन कर तैयार हुआ। पहले इसके नाम को लेकर विवाद हुआ। विवाद का समाधान करने के बाद भी भाजपा और सपा के बीच पुल के निर्माण का श्रेय लेने कि रस्साकसी खत्म नहीं हुआ। इसी का परिणाम है कि सपा नेताओं ने पीएम के लोकार्पण व शिलान्यास कार्यक्रम से पहले ही पुल का लोकार्पण कर दिया।

फिलहाल पुल के लोकार्पण से सबसे ज्यादा फजीहत जिले के खुफिया विभाग और पुलिस कि हुई। उन्हें सपा के इस कार्यक्रम कि भनक तक नहीं लग पाई। लेकिन जब से यह खबर मीडिया में आई उसके बाद से सपा नेताओं पर प्रशासन का दबाव लगातार बढ़ता गया।

टीम बेबाक

(Visited 9 times, 1 visits today)

Leave a Comment