Share
19 साल बाद रामनवमी पर बन रहा है दुर्लभ संयोग, इस विधि से करें पूजा

19 साल बाद रामनवमी पर बन रहा है दुर्लभ संयोग, इस विधि से करें पूजा

नई दिल्ली

आज पूरे देश में रामनवमी का त्योहार मनाया जा रहा है। इस बार रामनवमी पर 19 साल बाद विशेष संयोग बन रहा है। साथ ही आद्र्धा नक्षत्र, शोभन योग, बब करण, बुधादित्य योग व अष्टमी पूजन का भी विशेष संयोग बन रहा है। इस दिन को रामजन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है।

भगवान श्री राम का जन्म त्रेतायुग में चैत्र शुक्ल नवमी के दिन हुआ था। इसमें मध्याह्न व्यापिनी शुद्धा तिथि ली जाती है। भगवान श्री राम का जन्म मध्या्हन 12 बजे कर्क लग्न में हुआ था। उस दिन चैत्र शुक्ल नवमी, गुरुवार पुष्य नक्षत्र विद्यमान थे।

READ  खराब हो गई है घर की आर्थिक स्थिति तो आज ही छोड़ दें ये आदतें, होगी मां लक्ष्मी की कृपा

25 मार्च को सुबह 7:43 मिनट पर नवमी तिथि प्रारंभ होगी। नवमी में पूजन का समय 10:52 से 12:24 तक श्रीराम का जन्मोत्सव के लिए शुभ रहेगा। ज्योतिषियों के अनुसार, 19 साल पहले 25 मार्च 1999 को भी ठीक ऐसा ही संयोग था। जैसा कि इन नवमी पर पड़ रहा है। 24 मार्च को सप्तमी व अष्टमी का पूजन व नवरात्र का व्रत होगा।

रामनवमी के अवसर पर कई जगहों पर शोभायात्रा निकलेगी। इस दिन इन मंत्रों के जाप करने आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इससे आपके जीवन में रही आर्थिक परेशानियां और बधाएं दूर हो जाएगी।

READ  जानिए होलिका दहन के लिए कौन-सा मुहूर्त है सबसे शुभ

आप श्रीराम की फोटो रखकर विधिवत रूप से पूजन करें और ‘ऊं रामभद्राय नम:’ मंत्र की कम से कम 4 माला का जाप करने से आपके कार्यो में आने वाली समस्त बाधायें दूर होगी।

टीम बेबाक

SHARE ON :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
(Visited 11 times, 1 visits today)