Share
नोटबंदी की वजह से खाने के पड़े लाले तो करवा लिया नसबंदी

नोटबंदी की वजह से खाने के पड़े लाले तो करवा लिया नसबंदी

आजमगढ़, उत्तर प्रदेश
नोटबंदी का असर ऐसा हो रहा कि लोग नसबंदी करने पर हो रहे हैं मजबूर। अलीगढ़ में एक ऐसा मामला आया है, जिसे सुन कर आप भी दंग रह जाएंगे। एक परिवार के पास खाने के लिए पैसा नहीं था तो उसने नसबंदी करवा लिया।

अलीगढ़ के रहने वाले पूरन के पास खाने के लिए पैसे नहीं थे। उनकी पत्नी विकलांग है। वो कोई काम नहीं कर सकती। जब खाने के लाले पड़ने लगे तो पूरन और उनकी पत्नी ने नसबंदी से मिलने वाले पैसे के लिए यह फैसला लिया। आपको बता दें कि अगर पुरुष नसबंदी करवाता है तो उसे 2200 मिलता है और महिला कराती है तो उसे 1400 रुपये सरकार की तरफ से मिलता है।

READ  नोटबंदी पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, जारी रहेगी नोटबंदी

ये सिर्फ एक मामला नहीं है। नोटबंदी के बाद नसबंदी के मामले में इजाफा हुआ है। स्वस्थ्य अधिकारियों का कहना है कि शायद जागरुकता अभियान के चलते नसबंदी के मामले में बढ़ोतरी हुई है, लेकिन पूरन का मामला देखते हुए ऐसा नहीं लगता है कि ये कोई जागरुकता अभियान का हिस्सा हो।

पूरन ने कहा कि उसे किसी आशा कर्मचारी ने इसकी जानकारी दी थी कि नसबंदी करने से सरकार की तरफ से पैसा मिलता है। इसलिए पूरन ने घर चलाने के लिए ये काम किया।

READ  राज्यसभा के लिए समाजवादी पार्टी के उम्मदीवारों ने पर्चा दाखिल किया

एक आंकड़े के मुताबिक इस साल 2,272 लोगों ने नसबंदी करवाई है। इसमें 913 मामले नवंबर के हैं। वैसे ठंड के मौसम में नसबंदी के मामले बढ़ जाते हैं क्योंकि इस ठंड में संक्रमण का खतरा गर्मी की अपेक्षा थोड़ा कम होता है।

फोटो -सांकेतिक

टीम बेबाक

SHARE ON :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
(Visited 66 times, 1 visits today)