एक ऐसी वीरांगना जिसने लक्ष्मीबाई की प्राण बचाने के लिए खुद के प्राण न्यौछावर कर दिये
Permalink

एक ऐसी वीरांगना जिसने लक्ष्मीबाई की प्राण बचाने के लिए खुद के प्राण न्यौछावर कर दिये

नई दिल्ली भारत देश वीरों का देश रहा है और यह भूमि उन वीरों की वीरता का प्रतीक है, विभिन्न संस्कृतियों का प्रतीक है। और इस देश की…

Continue Reading →

ये हैं भारत की पहली महिला डॉक्टर, बाल विवाह की कुरीतियों के खिलाफ लड़ी थी जंग
Permalink

ये हैं भारत की पहली महिला डॉक्टर, बाल विवाह की कुरीतियों के खिलाफ लड़ी थी जंग

नई दिल्ली भारत की पहली महिला डॉक्टर रुखमाबाई राउत को 153वें जन्मदिवस पर गूगल ने डूडल बना कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। रुखमाबाई का जन्म आज ही…

Continue Reading →

आज भी हमारे बीच ‘जिंदा’ है एक वैज्ञानिक! जो हमें रोज करता है इस रूप में मदद
Permalink

आज भी हमारे बीच ‘जिंदा’ है एक वैज्ञानिक! जो हमें रोज करता है इस रूप में मदद

नई दिल्ली इंसान की काबिलियत का अंदाजा उसकी कर्मों से लग जाता हैं। भारत में ऐसे बहुत से महापुरुष हुए, जिन्होंने अपने कार्यो के बल पर भारत को…

Continue Reading →

श्रद्धांजलि: इंदिरा को मारी गईं थीं 30 गोलियां, बचाने के लिए चढ़ाया गया था 88 बोतल खून
Permalink

श्रद्धांजलि: इंदिरा को मारी गईं थीं 30 गोलियां, बचाने के लिए चढ़ाया गया था 88 बोतल खून

नई दिल्ली देश की पूर्व प्रधानमंत्री और आयरन लेडी के नाम से विख्यात इंदिरा गांधी की आज 33वीं पुण्यतिथि है। इस मौके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, प्रणब मुखर्जी, मनमोहन…

Continue Reading →

बलात्कार के दोषी के बचाव में उतरे बलात्कार के आरोपी
Permalink

बलात्कार के दोषी के बचाव में उतरे बलात्कार के आरोपी

नई दिल्ली 32 लाशों के साथ बलात्कारी राम रहीम ने इतिहास बना दिया। साथ ही सत्ता में बैठे शहंशाहों को अपनी हनक भी दिखा दिया कि तुम कुछ…

Continue Reading →

एक रेपिस्ट को इतना सपोर्ट क्यों?
Permalink

एक रेपिस्ट को इतना सपोर्ट क्यों?

नई दिल्ली इस नजारे का गुनहगार कौन है….कौन है जिसने ऐसी तस्वीर बनाई…सरकार पस्त, पुलिस पस्त, सेना भी पस्त…क्या देश की जनता एक रेपिस्ट के लिए मर मिटने…

Continue Reading →

अमरनाथ हमला : घाटी में विवादित अफ्सपा कानून की है जरूरत
Permalink

अमरनाथ हमला : घाटी में विवादित अफ्सपा कानून की है जरूरत

दिल्ली विवादित अफ्सपा (AFSPA) कानून को केंद्र सरकार धीरे-धीरे समाप्‍त करने की योजना में है। इस कानून को लेकर कई बरसों से विभिन्‍न सामाजिक संगठन आवाज बुलंद करते…

Continue Reading →

फादर्स डे: खास दिन को पिता के लिए इस तरह बनाएं यादगार
Permalink

फादर्स डे: खास दिन को पिता के लिए इस तरह बनाएं यादगार

दिल्ली पिता घर की नींव होते हैं। पिता अपने बच्चों की ताकत होते हैं। पिता जो अपनी तकलीफों को छुपा कर लेकिन अपने बच्चों की हर खुशियों को…

Continue Reading →

दामिनी के बाद दामन में और भी दाग हैं साहब…
Permalink

दामिनी के बाद दामन में और भी दाग हैं साहब…

ठिठुरी हुई रात का दर्द की तपिश का पसीना आज दोपहर के 2.30 बजे निकला। लेकिन इस पसीने को जिस्म के ऊपर आने में 5 साल का वक्त…

Continue Reading →

इस मिट्टी का हिसाब दो…
Permalink

इस मिट्टी का हिसाब दो…

एक जिस्म जल रहा था में तो एक जिस्म आंसू के सैलाब में डूबा था। बस मातम ही मातम था। सिसकियों की कोई जगह नहीं थी क्योंकि हर…

Continue Reading →

सहयोग और संवाद…भाजपा की ‘सफलता’ की असली कुंजी
Permalink

सहयोग और संवाद…भाजपा की ‘सफलता’ की असली कुंजी

एश्वर्या सिंह जब मैंने पहली बार ये सुना था कि 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा के ओर से प्रधानमंत्री के साथ अनेक केंद्रीय मंत्रियों ने वहां…

Continue Reading →

Permalink

रात का अंधेरा हो गया था…आवाज बहुत धीमे-धीमे आ रही थी। गौर से सुनने के बाद पता चलता क्या हो रहा है। हम हिंदुस्तान के इतिहास के उस…

Continue Reading →