Share
धर्मशाला मैच का ‘धर्मसंकट’

धर्मशाला मैच का ‘धर्मसंकट’

15 मार्च से टी-20 वर्ल्डकप का आगाज हो रहा है और भारत की पहली भिड़ंत 19 मार्च को उसके चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान से है लेकिन धर्मशाला में होने वाले मैच पर अब खतरे के बादल मंडरा रहे हैं। क्योंकि हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने इसे भारत-पाकिस्तान के बीच चल रही तानातनी और जवानों की शहादत से जोड़कर इसे एक अलग ही रंग दे दिया है। उन्होंने कहा कि यह मैच धर्मशाला में ना हो इसके लिए वीरभद्र सिंह ने केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को चिठ्ठी भी लिखी है।

दरअसल भारत-पाकिस्तान के मैच का दुनियाभर के क्रिकेट प्रेमियों को बेसब्री से इंतजार रहता है लेकिन क्रिकेट के पिच पर होने वाले मुकाबले से पहले ही देश की दो बड़ी पार्टियां आमने सामने आ गई हैं। और तो और दोनों के बीच जैसा बोओगे वैसा ही काटोगे वाले हालात हो गए हैं क्योंकि जब केन्द्र में यूपीए की सरकार थी तब बीजेपी कभी भारत-पाक के मैच के पक्ष में नहीं रहती थी और यूपीए को क्रिकेट के मुद्दे पर आतंकवाद से जोड़कर बात करती थी। वैसे ही अब केन्द्र में एनडीए की सरकार है और अब कांग्रेस भी इस मुद्दे  को वैसे ही भुना रही है। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी का कहना है कि आतंक और खेल एक साथ नहीं हो सकते इसलिए भारत को पाकिस्तान के साथ किसी प्रकार के खेल संबंध नहीं रखने चाहिए।

READ  RIO 2016: नरसिंह का सपना टूटा, लगा 4 साल का बैन

सीधी सी बात है कि जब खेल में राजनीति का घालमेल होता है तो यही होता है। तभी तो सूबे के मुखिया वीरभद्र सिंह ने साफ कहा कि भारत और पाकिस्तान का मैच धर्मशाला में ना हो। सीएम वीरभद्र ने कहा की पाकिस्तान से आतंकी आकर हमारे जवानों को मार रहे हैं ऐसे में हमें पाक के साथ मैच नहीं खेलना चाहिए।

दरअसल भारत-पाकिस्तान के बीच मुकाबले को लेकर कांग्रेस और बीजेपी अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रही हैं। हिमाचल में कांग्रेस की सरकार और हिमाचल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष और बीसीसीआई के सचिव अनुराग ठाकुर बीजेपी सांसद हैं। ऐसे में दोनों ही अपना-अपना हित साधने में लगे हुए हैं। वहीं केन्द्रीय स्तर पर भी कांग्रेस नेता पाक के साथ क्रिकेट के संबंधों के खिलाफ है लेकिन बीसीसीआई के सदस्य राजीव शुक्ला की राय पार्टी लाइन से बिल्कुल अलग है शुक्ला का कहना है कि खेल और राजनीति को एक साथ नहीं जोड़ना चाहिए।

READ  महिला वर्ल्डकप: न्यूजीलैंड को मात देकर सेमीफाइन में पहुंची मिताली राज की टीम

वहीं पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष शहरयार खान ने कहा है कि पाकिस्तानी हुकूमत ने उन्हें मैच खेलने की स्वीकृति दे दी है ऐसे में पाक टीम की सुरक्षा की जिम्मेदारी भारत सरकार की है।

धर्मशाला मैच के टिकटों की बिक्री शुरु हो चुकी है। ग्राउंड लेवल पर तैयारियां चल रही हैं ऐसे में बीसीसीआई और केन्द्र सरकार के रुख का सबको बेसब्री से इंतजार है और सवाल भी है कि क्या 19 मार्च को भारत –पाकिस्तान की जोरदार भिड़ंत देखने को मिलेगी या धर्मशाला का मैच धर्म संकट की बली चढ़ जाएगा।

स्पोर्ट डेस्क, बेबाक न्यूज

SHARE ON :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
(Visited 50 times, 1 visits today)